समर्थक

जुलाई 05, 2017

गुहार



















प्रिये अब तुम दूर न जाना

        आँखें पथ है निहार रही
        वो दिन न रहा वो रात न रही
        उलझी कब से है लटें सारी
        सुलझाओ आकर ओ सजना

सच सारे तो तुम साथ लिए
चल दिये ,मैं मिथ्या एक भरम
तुम हो यथार्थ- मैं  स्वप्न लिए
तथ्यों से परे हूँ खड़ी चिर-दिन 

      यूँ जाना कुछ खल सा गया
      तुम से जीवन का सार प्रिये
      वो दिन भी रहा वो रात भी रही
      बस यादों का संसार लिए 

ब्लॉग आर्काइव

widgets.amung.us

flagcounter

free counters

FEEDJIT Live Traffic Feed